योग की श्रेष्ठता (जीवन-जीने/मरने की कला)| भगवद्गीता 6.46 - श्रीमान अभयचरणार्विंद दास